पुत्र प्राप्ति के मन्त्र

संतान गोपाल मन्त्र एवं गायत्री आदि मन्त्रों का जाप किया जा सकता है 


कुमारकल्प्द्रुम नामक घृत का सेवन बहुत ही उपयोगी है उन लोगों के लिए जो संतान हीनता से पीड़ित हैं
इस घृत के सेवन से जन्मबंध्या स्त्री भी पुत्र को उत्पन्न करती है इस घृत के उपयोग को ध्यान पूर्वक पढ़िए इसके उपयोग से नपुंसकता भी दूर भागती है और कमजोर मनुष्यों में भी कामशक्ति संपन्न होकर स्त्री के साथ सुखमय सम्भोग करने की अति इच्छा जागृत होती है|

जो स्त्री रजो – दोषयुक्त हो तथा जो मनुष्य वीर्य दोष से दूषित हो तथा जो स्त्री भग रोग से सर्वदा पीड़ित रहती हो ,जिस स्त्री के रज प्रवृत्ति प्रारम्भ ही ना हुई हो तथा जिन स्त्रियों के संतान बार बार होकर मर जाती हो तथा अनेक औषधियों के सेवन करने के उपरान्त भी कोई फायदा ना हुआ हो उनके लिए ये घृत बहुत ही उपयोगी है

Kumarkalpdrum promotes fertility it strenthens uterus ,prevents abortion and cures infertility.

No adverse effects: Like all other natural treatment Kumarkalpdrum is also free from any side effects that often attack the users of the conventional old types of medicines.It is an apt treatment that helps the women to become mothers.

Natural Treatment: A perfect combination to the herbal ingredients ,Kumarkalpdrum treats the women in a natural way and helps them to get rid of vaginitis and different pregnancy or seminal disorders.

Balances Female Hormones : The women need to have balanced hormones to become capable for pregnancy but certain deficiencies of hormones create hurdies for the females to bear the children .Kumarkalpdrum is an effective medicine that balances their hormones that are responsible for pregnancy.

Dosage:
1/2 Half Spoon Morning & Evening with hot milk or warm water . Please note the dose of ayurvedic medicines are not fixed exact dose depends on the age strength ,digestive power of the patient the nature of illness the state of viscera and humours and the property of the individual drug.

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *