कॉल करें : +91-9868282982 अगर आपने IVF कराया या IUI करवाया और सफल नहीं हुए , परेशान न हों एक बार संपर्क करें अभी कॉल करें निःशुल्क सलाह लें  

गर्भाशय में अंडों की गुणवत्ता सुधारने के ल‍िए महिलाएं खाएं ये चीजें, फर्टिल‍िटी भी बढ़ाएं

ओवरीज यानी अंडाशय में स्वस्थ अंडे उसके मासिक धर्म चक्र की नियमितता, भविष्य में प्रजनन क्षमता और गर्भधारण करने की उसकी क्षमता को निर्धारित करते हैं। सफल गर्भधारण के लिए अंडों का अच्छा होना बहुत जरूरी है । अब आप सोचेंगी कि एक महिला कैसे जाने कि उसके अंडे स्वस्थ हैं? दरअसल ऐसी कई बातें होती हैं जो महिला के डिंब यानी अंडों की गुणवत्ता और स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं, जिसमें महिला का आहार और लाइफस्टाइल सबसे महत्वपूर्ण है । बेहतर प्रजनन क्षमता पर्यावरण से जुड़े कारकों, हार्मोन, तनाव, स्वस्थ मासिक धर्म चक्र, ब्लड सर्कुलेशन और खानपान पर आधारित होती है। लाइफस्टाइल में सरल बदलाव एवं एक स्वस्थ और पोषक आहार अंडों की गुणवत्ता में सुधार कर सकते हैं और महिला के गर्भवती होने की संभावना को भी बढ़ा सकते हैं

अंडों की गुणवत्ता क्यों महत्वपूर्ण है

आपके अंडे, आपकी प्रजनन क्षमता का मूल आधार होते हैं। अंडों की गुणवत्ता आपके फर्टिलाइजेशन या गर्भाशय में इम्प्लांटेशन (आरोपण) की संभावनाओं को प्रभावित करती है और आपके गर्भधारण करने की संभावनाओं को भी तय करती है। यद्यपि महिलाएं अपने पूरे प्रजननक्षम वर्षों के दौरान अंडों का उत्पादन करती हैं, लेकिन ऐसा माना जाता है कि अंडों की कोशिकाएं पुन: उत्पन्न नहीं होती हैं। पहले यह माना जाता था कि एक महिला के पेट में जन्मतः ही अंडे होते हैं एवं शरीर इनका और अधिक उत्पादन नहीं करता । हालांकि, हल के नए शोध में यह साबित किया गया है कि अंडाशय में स्टेम कोशिकाएं एक महिला के प्रजननक्षम वर्षों में और अंडे बनाने में सक्षम हैं; हालांकि अंडों की गुणवत्ता पर महिला उम्र का प्रभाव पड़ता है। अंडे ओवरीज में होते हैं। जैसे-जैसे आप बड़ी होती हैं, ओवरी अंडों को संभालने में कमजोर होती जाती हैं। ओवुलेशन के लिए एक अंडे को 90 दिनों का एक चक्र लगता है। पूरी तरह मैच्योर होने से पहले, यह स्वास्थ्य और दूसरे कारणों से प्रभावित होता है।

1. एवोकाडो एवोकाडो एक बेहतरीन फल है, जिसमें पाया जाने वाला हाई फैट अंडों की गुणवत्ता में सुधार करता है। एवोकाडो मोनोसैचुरेटेड फैट (शरीर के लिए आवश्यक एक अच्छा फैट) से भरपूर होता है जो अच्छे प्रजनन स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है । इसका उपयोग सैंडविच, सलाद या यहाँ तक कि एक डिप या सॉस बनाने में भी किया जा सकता है।

2. दालें व बीन्स आपके शरीर में आयरन की कमी से ओवुलेशन की समस्या हो सकती है। बीन्स और दाल आयरन और अन्य विटामिन व खनिजों का एक समृद्ध स्रोत होती हैं जो प्रजनन क्षमता के लिए बहुत जरूरी हैं। अपने आहार में रोज बीन्स और दाल को शामिल करें । आप रसम, सांभर, करी, सलाद और सूप आदि में इनका इस्तेमाल कर सकती हैं ।

3. सूखे फल व मेवे सूखे फल और मेवे प्रोटीन, विटामिन और मिनरल का बेहतरीन स्रोत होते हैं। ब्राजील नट्स में विशेष रूप से सेलेनियम नामक मिनरल की प्रचुर मात्रा होती है, जो अंडे में क्रोमोसोम (गुणसूत्र) की क्षति को समाप्त करता है। सेलेनियम एक एंटीऑक्सिडेंट है जो फ्री रेडिकल्स को दूर रखता है और बेहतर अंडा उत्पादन में सहायता करता है। अपने सलाद में नाश्ते में इन्हें शामिल करें।

4. तिल तिल में जिंक बहुत होता है और यह अंडों की अच्छी गुणवत्ता के लिए जिम्मेदार हार्मोन के उत्पादन में मदद करता है। तिल के बीज में मोनोसैचुरेटेड वसा भी भरपूर होता है। तिल को काजू बादाम जैसे मेवों के साथ मिला लें । इसके अलावा हम्मस में तिल के बीज का पेस्ट उपयोग होता है, इसलिए अपने आहार में हम्मस को शामिल करना अच्छे अंडों प्राप्त करने का एक शानदार तरीका हो सकता है।आप तिल को सीरियल्स और सलाद में भी मिलाकर भी खा सकती हैं।

5. बेरीज जामुन, बेर, स्ट्रॉबेरी, शहतूत जैसी तमाम बेरीज में प्रचुर एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो अंडे को फ्री रेडिकल्स से बचाते हैं और कई तरीके से सुरक्षा प्रदान करते हैं।आप इन्हें साबुत, स्मूदी या फ्रूट सलाद के रूप में खा सकती हैं। हर हफ्ते कम से कम तीन बार बेरीज को आपके आहार में शामिल करने की सलाह दी जाती है।

6. हरी पत्तेदार सब्जियां पालक, केल और अन्य पत्तेदार सब्जियों फोलेट, लोहा, मैंगनीज, कैल्शियम, और विटामिन ए पाया जाता है, हर दिन अपने आहार में कम से कम दो हिस्से हरी सब्जियों के शामिल करें। अपनी दैनिक आवश्यकता की पूर्ति के लिए इन्हें सलाद, करी या स्मूदी किसी भी रूप में सेवन करें ।

7. अदरक एक और सुपरफूड, अदरक में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाते हैं और स्वस्थ पाचन तंत्र में मदद करते हैं। अदरक प्रजनन प्रणाली में किसी भी असुविधा को कम करने में मदद करता है, पीरियड्स को नियमित करता है और प्रजनन अंगों में किसी भी प्रकार की सूजन आदि को कम करता है। अदरक को अपने आहार में शामिल करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है अदरक से भरी चाय पीना। अदरक को आप सलाद या करी में भी डालकर खा सकती हैं।

8. माका रुट माका रुट जो एक चमत्कारिक जड़ी बूटी है, इसमें 31 विभिन्न मिनरल्स और 60 फाइटोन्यूट्रिएंट्स होते हैं। यह शुक्राणु और अंडे की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। यह हार्मोनल असंतुलन को स्थिर करता है और कामेच्छा भी बढ़ाता है। इसे पाउडर या कैप्सूल के रूप में सेवन किया जा सकता है। माका रूट पाउडर को स्मूदी में मिलाकर या चॉकलेट ट्रफ़ल्स में डालकर भी खाया जा सकता है।

9. दालचीनी दालचीनी अंडाशय के काम में सुधार करने और इंसुलिन प्रतिरोध को उत्तेजित करके उचित अंडे के उत्पादन को बढ़ाने के लिए जानी जाती है। पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस) से पीड़ित महिलाओं को दालचीनी को अपने आहार में शामिल करने की सलाह दी जाती है। ¼ चम्मच दालचीनी हर रोज करी, सीरियल्स या यहाँ तक कि कच्चे रूप में खाई जानी चाहिए। आप इसे नाश्ते में टोस्ट के ऊपर लगाकर भी खा सकती हैं।

10. पानी पानी भले ही कोई खाद्य पदार्थ नहीं है लेकिन अंडों की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए यह एक आवश्यक घटक है। एक दिन में 8 गिलास पानी पीने का लक्ष्य रखें। शुद्ध पानी पीएं और प्लास्टिक की बोतलों से पानी पीने से बचें। प्लास्टिक की बोतलों से निकलने वाले केमिकल्स अंडों के स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Call Now