कॉल करें : +91-9868282982 अगर आपने IVF कराया या IUI करवाया और सफल नहीं हुए , परेशान न हों एक बार संपर्क करें अभी कॉल करें निःशुल्क सलाह लें  

प्रेगनेंट होने के लिए एग की क्‍वालिटी को सुधारना है जरूरी, जानें आसान तरीके

मां बनने या प्रेगनेंट होने के लिए अंडे की क्‍वालिटी अच्‍छी होना बहुत जरूरी है। इससे प्रेगनेंसी के बने रहने और भ्रूण के स्‍वस्‍थ रहने की संभावना बढ़ जाती है। महिलाएं कुछ प्राकृतिक तरीकों से एग की क्‍वालिटी में सुधार ला सकती हैं।

प्रेगनेंट होने के लिए कई चीजें मायने रखती हैं और भ्रूण को पालने के लिए महिलाओं के प्रजनन तंत्र का मजबूत होना बहुत जरूरी है। यदि प्रेगनेंट महिला का अंडा स्‍वस्‍थ होगा तो उससे भ्रूण का विकास बेहतर हो पाएगा। एक अंडाशय में हेल्‍दी एग महिला के मासिक धर्म चक्र की नियमितता, भविष्य में प्रजनन क्षमता और गर्भ धारण करने की उसकी क्षमता को निर्धारित करते हैं।
डायट, पोषण, स्‍ट्रेस, लाइफस्‍टाइल, हार्मोन और शरीर में परिसंचरण पर एग की क्‍वालिटी निर्भर करती है/ अगर आप अपने एग की क्‍व‍ालिटी को बेहतर करना चाहती हैं तो अपनी डायट में कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल कर ऐसा कर सकती हैं।

डॉ नरेन्द्र राठी के अनुसार अगर AMH का लेवल कम है या बहुत ज्यादा है तो इसे नार्मल लेवल पर लाया जा सकता है हमारी दवाइयों का सेवन करके और कुछ डॉ राठी खाना पीना में भी क्या खाएं और क्या न खाएं जैसी अछे सलाह देते हैं जिससे आपका AMH बिलकुल सामान्य हो जाता है आज ही कॉल करें : 9868282982

एवोकैडो

इसे सुपरफूड भी कहा जाता है और इस फ्रूट में कई पोषक तत्‍व होते हैं। एवोकैडो में मोनोअनसैचुरेटेड फैट होता है जो एग की क्‍वालिटी और प्रजनन स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर करने में मदद करता है।

​बींस और दालें

महिलाओं में आयरन की कमी चिंता का विषय हो सकता है क्‍योंकि इसकी वजह से ओवुलेशन में परेशानी आ सकती है। बींस और दालें आयरन, विटामिन बी कॉम्‍प्‍लेक्‍स, मैग्‍नीशियम और अन्‍य जरूरी पोषक तत्‍व होते हैं जो फर्टिलिटी को बढ़ाने में मदद करते हैं।

अपने आहार में रोज दाल और बींस को शामिल करें।

​तिल के बीज

तिल के बीजों में जिंक होता है जो हेल्‍दी एग बनाने वाले हार्मोंस का उत्‍पादन करने में मदद करते हैं। इनमें मोनोअनसैचुरेटेड फैट भी होता है जो एग को हेल्‍दी बनाने में मदद करते हैं।

​अदरक

अदरक में सूजन-रोधी गुण होते हैं जो पाचन में सुधार और रक्‍त प्रवाह को बढ़ाते हैं। ये प्रजनन तंत्र से जुड़ी समस्‍याओं, मासिक चक्र को नियमित और प्रजनन अंगों में सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

आप अदरक की चाय या अदरक का पानी पी सकती हैं। भोजन में भी अदरक को डाल सकते हैं।

​दालचीनी

दालचीनी भी महिलाओं की फर्टिलिटी के लिए सुपरफूड का काम करती है। ये ओवरी के कार्य में सुधार लाती है और अंडे के उत्‍पादन को बढ़ावा देती है। पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम में दालचीनी बहुत फायदेमंद होती है। पीसीओएस और प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए दालचीनी को अपने आहार में शामिल करें।

अगर आप अपनी फर्टिलिटी पॉवर को बढ़ाना और एग की क्‍वालिटी को बेहतर करना चाहती हैं तो कैफीन युक्‍त पदार्थों का सेवन न करें और जितना हो सके तनाव से भी दूर रहें। कंसीव करने से पहले फोलिक एसिड के सप्‍लीमेंट लें और नाश्‍ता जरूर करें।

​डायट पर दें ध्‍यान

इसके अलावा एग की क्‍वालिटी को बेहतर करने के लिए अपनी डायट में हरी पत्तेदार सब्जियां, फल, सूखे मेवे और फिश एवं मीट को शामिल करें। आपको तली हुई चीजों, प्रोसेस्‍ड फूड या मीट एवं नमक और शुगर युक्‍त चीजों से दूर बना लेनी है।

महिलाओं की ओवरी में बनने वाला एग फर्टिलाइजेशन और इंप्‍लांटेशन की संभावना को प्रभावित करता है। एग की क्‍वालिटी से ही पता चलता है कि वो प्रेग्‍नेंसी तक पहुंच पाएगा या नहीं। एक अंडे को ओवुलेशन के लिए तैयार होने में 90 दिनों का समय लगता है।

अगर आप स्‍वस्‍थ बच्‍चा चाहती हैं तो अभी से ही अपने एग की क्‍वालिटी को बेहतर बनाने के लिए ऊपर बताई गई चीजों को अपनी डायट में शामिल करना शुरू कर दें।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Call Now